ठंड बढ़ने से चिंता में सरसों की फसल, गेहूं को नहीं किसी का डर

रेवाड़ी। जिले में लगातार बढ़ रहा कोहरा व पाला ने किसानों की चिंता बढ़ा दी है। ऐसे में इससे गेहूं की फसल को तो फायदा हो रहा है लेकिन सरसों व कई अन्य फसलों में नुकसान हो रहा है।

sarson ki fasal

जिले में 60 हजार हेक्टेयर में सरसों (सरसों की फसल) व करीब 32 हजार हेक्टेयर में गेहूं की बिजाई की गई हैं। लगातार हो रहे कोहरे के कारण जिले में सरसों की फसल पर संकट के बादल मंडराने लगे हैं, इसकी वजह से पिछले दिनों 2 जगह सफेद रोड़ी के मामले भी मिले हैं।

कृषि अधिकारियों ने बताया कि यहां अभी पाले पड़ने की स्थिति नहीं है। लेकिन इस ठंड की वजह से गेहूं की फसल को जबरदस्त फायदा मिल रहा है। वहीं दूसरी ओर सरसों की फसल में बीमारी पनपने की संभावना बनी हुई। धूंध लगातार बढ़ती रही तो आने वाले कुछ दिनों में सरसों की फसल में सफेद रोड़ व चेपा लगने की संभावना बढ़ जाएगी। जोकि फसल के​ लिए काफी घातक बीमारी होती है। हालांकि कृषि विज्ञानिकों ने बताया कि अगले 1-2 दिन में हल्की धुंध कम होने के आसार हैं। जिससे फसलों को इन बीमारियों का खतरा नहीं रहेगा। किसानों ने बताया कि सात दिन से लगातार ठंड पड़ रही है, जो सरसों की फसल पर नुकसानदायक है।

सिंचाई कर सफेद रोड़ी से सरसों को बचाएं

कृषि अधिकारियों की सलाह है कि किसान सिंचाई कर सरसों की फसल को विभिन्न बीमारियों से बचा सकते हैं। फसल पर ज्यादा ठंड पड़ने की वजह से पैदावार घटने की आशंका रहती है। इसी वजह से फसल में चेपा लगने व सफेद रोड़ी की सभावना रहती है। हालांकि इसके जिले में दो-तीन मामले भी सामने भी आ चुके हैं। इस बीमारी से फसल को सिंचाई कर बचाया जा सकता है।

लोगों की प्रतिक्रियाः

सर्दी गेहूं की फसल के लिए फायदेमंद है, लेकिन सरसों की फसल के लिए काफी नुकसानदायक है। ज्यादा ठंड बढ़ने से पैदावार प्रभावित होने की आशंका रहती है।

विक्की, भाकली

————–

गेहूं की फसल पर ओस काफी फायदेमंद होती है। इससे पैदावार में भी इजाफा होता है। लेकिन सरसों की फसल की किसान सिंचाई करें, ताकि फसल में नुकसानदायक न हो।

-बिजेंद्र, गुजरवास

—–

वर्जनः

फसलों पर अभी पाला नहीं पड़ा है। लेकिन यह धुंध लगातार रहेगी तो सरसों की फसल में सफेद रोड़ी लगने की संभावना बन जाएगी। जिले में 1-2 ऐसे केस सामने भी आ चुके हैं।

डॉ. बलबीर सिंह, कीट वैज्ञानिक बावल कृषि केन्द्र रेवाड़ी।

——————–

ठंड व धुंध गेहूं की फसल के लिए तो लाभदायक रहती है, लेकिन इससे सरसों की फसल में नुकसान होता है। ऐसे में सरसों में चेपा लगने की संभावना बढ़ जाती है। इससे बचने के​ लिए किसान लगातार सिंचाई करते रहें, ताकि फसल खराब न हो।

दीपक कुमार, एसडीओ रेवाड़ी।

———————

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *