भारत में अब होगा विकास, इस देश के साथ बनाए नए रिश्ते 

नई दिल्ली । भारत-अमेरिका व्यापार नीति फोरम की वाशिंगटन में होने वाली अहम बैठक के दौरान ज्यादा प्रगति की संभावना नहीं है। लेकिन इससे व्यापार विशेषज्ञों को कई उम्मीदें हैं। उम्मीद है कि दुनिया के दो सबसे बड़े लोकतंत्रों के बीच व्यापार वार्ता में कई स्तर पर बाधाएं दूर करने पर चर्चा होगी। बता दें, 2021-22 में दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय व्यापार 119.42 अरब डॉलर रह चुका है, जो 2020-21 में 80.51 अरब डॉलर था।

 

Factory
Factory image

वाणिज्य उद्योग मंत्री पीयूष गोयल अमेरिका के आधिकारिक दौरे पर हैं। उन्होंने न्यूयॉर्क में निवेश और वित्तीय दिग्गजों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों के साथ कई दौर की बैठकें भी की हैं। पीयूष गोयल वाशिंगटन में अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि कैथरीन ताई की तरफ से आयोजित की जा रही 13वीं व्यापार नीति फोरम (टीपीएफ) बैठक में भाग लेंगे।

ताई के साथ गोयल द्विपक्षीय बैठक भी करेंगे। दक्षिण मध्य एशियाई मामलों के पूर्व सहायक अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि मार्क लिंसकोट ने कहा, मौजूदा बैठक में द्विपक्षीय व्यापार समस्याओं, माल और सेवाओं की चर्चा पर जोर रहेगा।

अमेरिकी रक्षा मंत्रालय (पेंटागन) ने कहा है कि अमेरिका के भारत के साथ रक्षा संबंध बेहद महत्वपूर्ण हैं। पेंटागन के प्रेस सचिव जनरल पेट राइडर ने कहा, जब सुरक्षा व रक्षा सहयोग की बात आती है तो भारत-अमेरिका के बीच संबंध बेहद अहम हो जाता है। इसलिए हम भारतीय नेतृत्व के साथ जुड़ना जारी रखने की उम्मीद करते हैं। राइडर ने कहा, जब हमारे पास घोषणा करने के लिए कुछ होगा तो निश्चित रूप से हम करेंगे, लेकिन हम पहले से ही ‘क्वाड’ (भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान के समूह ) से जुड़े हैं और कई मोर्चों पर सहयोग में के साथ ठोस नतीजों पर शामिल हैं। इसलिए हम 2023 में ऐसा करना जारी रखने के लिए शिखर सम्मेलन से उम्मीद तत्पर हैं। 

व्यापार की रूपरेखा बनेगी…

लचीले व्यापार पर नए कार्य समूह के रूप में श्रम, पर्यावरण और नियामक प्रथाओं की नए सिरे से रूपरेखा बनेगी। हालांकि टीपीएफ से मामूली उम्मीदें भी हैं। हितधारकों कम है।

डिजिटल सहयोग आगे बढ़ाना चाहिए

मौजूदा सम्मेलन को लेकर मास्टरकार्ड में विश्व सार्वजनिक नीति के निदेशक आनंद रघुरामन ने कहा कि भारत की जी-20 अध्यक्षता के दौरान संभावित डिजिटल सहयोग को आगे बढ़ाना चाहिए। टीपीएफ व्यापार के क्षेत्र में दोनों देशों के बीच जुड़ाव और द्विपक्षीय व्यापार के साथ ही निवेश संबंधों को आगे बढ़ाने का एक मंच है। 12वां टीपीएफ मंत्रिस्तरीय सम्मेलन चार साल बाद गत वर्ष 23 नवंबर को नई दिल्ली में हुआ था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *